मेरा बेटा बना मेरा पति

मेरा नाम हैं उर्मिला। मेरा उम्र 39 हैं और मैं एक अकेली माँ हूँ। 11 साल के पूर्व मेरे पति ने मुझे अपने बेटे के साथ छोड़ दिया था। इतने सालों मे मैंने एक बार भी सेक्स नहीं किया। मेरे अंदर की प्यास बढता ही जा रहा था! उस समय मेरा बेटा रॉकी एक युवक में बदल गया था। बहुत ही अच्छा आकार का था। उसे देखकर मेरी चूत में आग लगने लगा! जब रॉकी 19 का हो गया तो मैंने उसे तंग करना शुरू किया। वो इतना सेक्सी, लंबा और मांसपेशियों वाला था कि मैं अपने ही बेटे के साथ वासना में थी! मेरा दिन आया जब उसकी प्रेमिका ने उसे छोड दिया। उस रात वह घर आया था नशे में है और मैं उसे शान्त करने के लिए उसके पास गई। इससे पहले कि हम कुछ महसूस करते, हम अपने बिस्तर में थे, प्यार करते हुए!
और उस दिन से हम एक दूसरे के प्रेमी बने। लेकिन मुझे लोगों का डर था कि कही वो हमे गलत न समझे और मां और बेटे को प्रेमी के रूप में बात करने लगेंगे। इसलिए मैं अपने बेटे को अपने से दूर रखने लगी। पर रॉकी इसे स्वीकार नहीं कर रहा था और वो मेरे और करीब होना चाहता था। उसने मुझे पूछा कि क्या मैं उसके साथ ही उसकी मां और पत्नी बनने के लिए तैयार थी!?
तो मैनें उसके शादी का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। हम मुंबई के निकट एक नए शहर में दूर चले गए। फिर उसके बाद हम वहा बस गए। हमने अपना नाम बदल के एक मंदिर में शादी कर ली। फिर हम एक पति-पत्नी बन गए!

ज़रूर पढ़े: 

फिर हम एक बडे होटेल में खाने के बाद हमारे सुहागरात के लिए घर आए। हम बेडरूम में जाकर बिस्तर पर बैठ गए। मेरे पति ने मुझे नंगा कर दिया और मैंने उसे गले लगाया। उसने अपने सीने के खिलाफ मेरे 36” स्तन को जोर से लगा लिया। वो मेरे मोटे निपल्स को महसूस कर सकता था। उसका लुंड कठिन हो गया। अब जब कि मैं उसकी पत्नी थी, उसका मुझपर पूरा हक था। उसका हाथ नीचे पहुँच गया और मेरे बड़े स्तन को लाड़ करने लगा।
मैं अपने बेटे / पति को प्यार करने लगी और फिर वो मेरी पीठ पर लुढ़का और मुस्कराया। फिर मेरे पति मेरे पैरों के बीच में चढ़ गए और मेरी भारी गेंदों को सहलाया। फिर उसने मेरी योनी को छुआ। मैं उसे बुरी तरह से चाहती थी। वह मेरा हाथ लिया और चूमा। मेरे मोटी निप्पल को अपने मुंह में लेकर चूसा जिससे मैंने अचानक खुशी में चिल्लाई।
मैं उसकी गोद में बैठी। फिर वो थोडी देर मेरे चूत को चाटने लगा। फिर उसने मुझे लिटाया और उसका लंड मेरे चूत में प्रवेश किया तो हम दोनों खुशी में हांफने लगे। मैं जोर से कराह रही थी और मेरी चूत को हिलाने लगी।
धीरे धीरे मैंने अपने कूल्हों को स्थानांतरित करना शुरू किया। रॉकी का लंड मेरे चूत अंदर और बाहर फिसलने लगा। मेरे चूत ने रस उसके लंड पे ही छोड दिया। क्या रोमांचक लम्हा था वो!
हम दोनो ज़ोर से कराह रहे थे! सांस भारी हो रहा था। मेरा बेटा मेरी योनी में जोर से चोदना शुरू किया। मैं ऐसी खुशी और उत्साह के साथ चिल्लाई कि रॉकी हिल गया!
मैनें धीरे धीरे बोल रही थी, “ओह, रॉकी, मुझे और जोर से चोदो और ठिन तरीके से!”
रॉकी बोला, “ओह, माँ, मैं तुम्हें और चोदना चाहता हूँ!” और मेरे गर्म कठोर चूत में अपने लंड को पटक दिया, मुझे बहुत मनोरंजक सा एहसास हो रहा था। मेरी चूत का पानी बाहर बह रहा था और मेरा शरीर कांप रहा था। फिर मैनें चिल्लाया, ”रॉकी ​​ओह … मेरा प्यारा बेटा.. मैं फिर झडने जा रहा हूँ!”
तो उसने मेरे चूत में और भी कठिन तरीके से चोदना शुरू किया। मैं खुशी में चिल्लाई। वो अब झडने वाला था। वो अचानक से कांपा और फिर मेरे चूत में ही अपने रस की गोली मार दी! उसने अपना लंड बाहर निकाला तो उसका रस बाहर प्रवाह करने लगा। हम दोनो थक गए थे। अब मैं फिर से माँ बनून्गी! और मेरा बेटा ही उसक पिता होगा! मैं उसके गर्दन के चारों ओर मेरी बाहों लिपटी और हम धीरे चूमे। एक दूसरे के पास लटे रहे!

मेरा बेटा मेरी आँखों में गहराई से देखा और बोला, “माँ, मैं तुमसे प्यार करता हूँ!”
तो मैं भी मुस्कुराते हुए बोली, “मैं भी तुम्हें बहुत प्यार करती हूँ, मेरे बेटे!

आपको कैसी लगीं? कृपया कमेंट के माध्यम से बताएं और यदि आप भी इनके कोई रोचक किस्से जानते हों तो हमें    ज़रूर भेजें.


यदि आपके पास Hindi,English में कोई article, story, essay  या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे E-mail करें. हमारी Id है: पसंद आने पर हम उसे आपके नाम के साथ यहाँ  PUBLISH  करेंगे. Thanks !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *