बहन और उसकी सहेली मीरा को चोदा – aerograf31.ru

Bahen aur uski Saheli Meera ko Choda

Bahen aur uski Saheli Meera ko Choda

kahani Bahen Aur Uski Saheli Ko Chodne ki 

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रतन है और मेरी दीदी की एक सहेली जिसका नाम मीरा था, मीरा दीदी को रोज अपनी मम्मी-पापा की सेक्सी बातें बताती थी। फिर एक दिन मीरा ने दीदी से कहा कि आज मेरे पापा मेरी मम्मी को किचन में किचन पट्टी बैठाकर उसके साथ सेक्स करने लगे। फिर दीदी ने पूछा कि तूने कैसे देखा? तो वो बोली कि में बेडरूम में पढाई कर रही थी तो मुझे आआआआआआआ, उई माआआआआआआआ की आवाज़ आई तो मैंने धीरे से दरवाजा खोलकर देखा, तो पापा मम्मी की दोनों टांगो को फैलाकर उसमें सटे हुए थे और मम्मी अपनी आँखे बंद करके आआआआआआअ कर थी। फिर मेरी मम्मी बोली कि ज़रा नीचे उतरो, तो में समझी कि वो बाहर आ रही है तो मैंने झट से दरवाजा अंदर से बंद कर लिया, लेकिन अब भी मुझे मम्मी की मदहोश आवाज़ आ रही थी। मेरे बेडरूम में एक खिड़की थी जो हमेशा बंद रहती थी और मैंने खिड़की के पतले सुराख से देखा तो मुझे वहाँ का सारा नजारा साफ-साफ दिखाई दे रहा था। ( ये कहानी आप aerograf31.ru पर पढ़ रहे है )
अब पापा-मम्मी की दोनों चूचीयों को अपने मुँह में लेकर चूस रहे थे, उन्होंने मम्मी के ब्लाउज को भी नहीं निकाला था। अब मुझे मम्मी की दोनों जांघे साफ़-साफ़ दिख रही थी और अब मम्मी पूरा मज़ा ले रही थी। फिर यह सब देखने के बाद मेरी चूत में जैसे कोई कीड़ा घूम रहा हो और मेरी चूचीयों पर मेरा हाथ अपने आप चला गया और में धीरे-धीरे उसे सहलाने लगी, जैसे मेरे तन बदन में आग लग गयी हो और फिर मेरे हाथ नीचे पहुँच गये और मेरी बीच की उंगली मेरी चूत में घूमने लगी और मैंने उंगली कब ज़ोर से हिलाई मुझे पता ही नहीं चला और मेरी चूत से पानी गिरा दिया। फिर तो मुझे बहुत ही मज़ा आया था।
फिर दीदी बोली कि ऐसा मज़ा लेना हो तो मेरे घर आजा, में और तुम दोनों एक दूसरे से मज़ा लेंगे। फिर मीरा ने बोला कि आज तुम मेरे घर चलो, में शाम को मम्मी इजाजत से लेती हूँ कि में तुम्हारे घर आज रात प्रॉजेक्ट के लिए चलूंगी। में इसके पहले भी कई बार तो तुम्हारे घर आई हूँ, तो मेरी मम्मी ज़रूर इजाजत देगी। फिर कॉलेज से निकलने के बाद दीदी और मीरा इजाजत लेकर हमारे घर आ गयी। में उस समय घर में नहीं था। फिर जब में बाहर से आया तो मैंने देखा कि मीरा और दीदी मेरे बेडरूम में बैठी थी, तो मैंने सोचा कि आज तो सब चौपट हो गया। अब मम्मी और पापा भी घर में नहीं थे, तो मैंने दीदी से कहा कि दीदी पानी देना। फिर जब दीदी पानी लेने गयी, तो में भी किचन में चला गया और दीदी से बोला कि मीरा कब आई? तो दीदी बोली कि मेरे साथ और आज यहाँ पर ही रहेगी।
फिर में बोला कि मुझे पहले ही लगा था कि आज की रात अपनी सुहागरात नहीं हो पाएगी। फिर दीदी बोली कि उसकी चिंता मत करो, आज तो तुमको घरवाली और बाहर वाली दोनों साथ में मिलेगी। फिर में बोला कि वो कैसे? मीरा को सब पता है क्या? तो दीदी बोली कि नहीं रतन तुम सिर्फ़ जल्दी सोने का नाटक करना, में सब काम बनाती हूँ। फिर मम्मी-पापा का फोन आया कि वो बाहर से रात को खाना लेकर आ रहे है। फिर दीदी ने मीरा के बारे में बताया और बोली कि उसके लिए भी खाना लेकर आना, वो भी आज अपने घर पर प्रॉजेक्ट बनाएगी। फिर मम्मी-पापा आए और हम सबने एक साथ डिनर कर लिया और करीब 9 बजे सोने चले गये। फिर दीदी बोली कि रतन मीरा भी पलंग पर सोएगी, तो तुमको कुछ प्रोब्लम तो नहीं है ना। फिर में बोला कि सोने दो, क्योंकि हमारा पलंग बहुत बड़ा था। अब में किनारे पर, दीदी बीच में और मीरा किनारे पर थी।
फिर हम लाईट ऑफ करके सो गये, तो आधे घंटे के बाद दीदी ने मीरा से धीरे से कहा कि अब रतन सो गया है, आओ शुरू करते है। दीदी तो एक समझदार खिलाड़ी के जैसे मुझसे मज़ा ले चुकी थी, इसलिए उसको सब मालूम था कि कहा से जल्दी सेक्स का मज़ा मिलता है। फिर दीदी ने धीरे-धीरे मीरा के सब कपड़े निकाल दिए। अब मीरा सिर्फ ब्रा और पेंटी में हो गयी थी। फिर दीदी धीरे-धीरे उसके निप्पल को सहलाने लगी तो मीरा जल्दी ही उत्तेजित हो गयी और ज़ोर-जोर से आआआआआ, आआ करने लगी। अब दीदी को भी सेक्स चढ़ने लगा था और अब दीदी अपने चूतड़ मेरी तरफ रगड़ने लगी थी। फिर में झट से दीदी की साईड में घूम गया और अपना लंड दीदी की चूत पर ऊपर से रगड़ने लगा। अब मीरा दीदी के सहलाने का मज़ा अपनी आँखे बंद करके ले रही थी और इधर दीदी ने पीछे से अपनी नाइटी धीरे से उठाकर अपनी पेंटी को थोड़ा सरका दिया था, जिससे मेरा लंड दीदी की चूत में पूरा घुस गया था।
अब दीदी आआआआ माआआआआअ करके मीरा से चिपक गयी थी और मीरा भी दीदी से चिपक गयी थी। फिर जब दीदी के बूब्स को दबाते हुए मीरा ने दीदी की चूत पर अपना हाथ घुमाया, तो उसने पूछा कि ये क्या डालकर रखा है? तो दीदी हंसने लगी और बोली कि इसी से बहुत मज़ा मिलता है। फिर मीरा बोली कि तो मेरी चूत में भी डाल ना। फिर दीदी ने कहा कि रतन को जगाना पड़ेगा तो मीरा थोड़ी सी डर गयी और बोली कि क्यों? तो दीदी बोली कि रतन का ही तो है, तो में भी हंसने लगा। फिर मीरा बोली कि रतन तुम बहुत नॉटी हो और तुम शुरू से अपनी दीदी की चूत में अपना लंड डालकर रखे हो और में यहाँ खाली हाथ से करवा रही हूँ। फिर मैंने भी आव देखा ना ताव और सीधा दीदी की चूत से अपना लंड बाहर निकालकर बीच में जाकर मीरा से चिपक गया, तो मीरा ने भी मेरा साथ दिया। अब में आपको मीरा के फिगर के बारे में बता देता हूँ, उसकी हाईट 5 फुट 1 इंच, फिगर साईज 32-28-36 था, अब में मीरा के साथ मजे ले रहा था।
फिर मैंने मीरा की ब्रा और पेंटी को निकालकर अलग किया और मीरा के बूब्स को धीरे-धीरे मसलने लगा। अब इधर दीदी मेरा लंड अपने मुँह में लेकर अंदर बाहर कर रही थी। फिर मैंने दीदी और मीरा को साथ में सुला दिया और मीरा की चूत में अपना लंड डाला तो मेरा लंड बड़ी आसानी से मीरा की चूत में घुस गया, क्योंकि मीरा बहुत पानी छोड़ चुकी थी। अब में दीदी के बूब्स को मसलता और मीरा की चूत पर अपने लंड से धक्के लगा रहा था और फिर 10 मिनट तक मीरा की चूत में धक्के लगाता रहा। फिर जब मैंने दीदी की चूत में तीसरी बार अपना लंड घुसाया, तो वो फ़चक-फ़चक पानी गिराने लगी। अब में मीरा की चूचीयाँ छोड़कर दीदी से पूरी तरह से चिपक गया था। फिर मैंने दीदी की दोनों संतरे जैसी चूचीयों को अपने मुँह में लेकर बारी बारी से चूसा और जब दीदी को इंग्लिश स्टाइल में चूमा तो दीदी पूरी की पूरी निहाल हो गयी और ज़ोर-जोर से अपने चूतड़ हिलाने लगी। दोस्तों ये कहानी आप कामुकता डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
अब दीदी 20 मिनट में पूरी सुस्त पड़ गयी थी और मुझसे बोली कि बस अब मीरा के साथ कर। अब मीरा तो जैसे तैयार सोई हुई थी, तो मीरा तुरंत मुझसे बोली कि अब मुझे डॉगी स्टाइल में करो, मैंने इसके बारे में बहुत सुना है। फिर में मीरा को तुरंत झुकाकर डॉग शॉट लगाने लगा। अब वो भी मेरे हर शॉट का जवाब अपने चूतड़ हिला-हिलाकर दे रही थी आआआआआआअ, आह बहुत मज़ा आ रहा है रतन सैया, ज़ोर से और ज़ोर से और ज़ोर से। फिर कुछ देर के बाद वो बोली कि बस अब थोड़ा आराम दो, मेरी टाँगे दुख रही है। फिर मैंने मीरा को पलंग पर सीधा लेटा दिया और उसकी दोनों गोरी- गोरी चूचीयों को सहलाने लगा और उसकी चूत के दाने को भी धीरे-धीरे मसलने लगा। अब वो चिल्लाने लगी थी राजाआाआ मत सताओ, अब ज़रा जल्दी से अपना लंड घुसाओ। फिर में अपना लंड मीरा की चूत में घुसाकर मीरा की चूत को चोदने लगा।
अब नीचे से मीरा अपने चूतड़ को रेल के इंजन के पहिए जैसे हिलाने लगी थी। फिर करीब आधे घंटे के बाद मीरा की चूत में से जो पानी गिरा ऐसा लगता था कि कोई नल फट गया हो। अब इधर मीरा की मदमस्त सिसकारी बंद होने का नाम ही नहीं ले रही थी। अब मीरा पानी छोड़ते हुए कराहने लगी थी और बोली कि थोड़ा दर्द हो रहा है। तो में बोला कि पहली बार है तो थोड़ी तकलीफ़ होगी। तो मीरा बोली कि अब थोड़ा आराम दो। फिर मैंने दीदी को उठाया और उसके साथ शुरू हो गया। मुझे दीदी की चूचीयाँ बहुत पसंद है गोरी-गोरी सफेद चूची पर निप्पल का काला टीका मेरे लंड को बार-बार उन्हें चोदने को मजबूर कर देता था। फिर में दीदी के निप्पल को धीरे-धीरे सहलाने लगा। अब उनके दोनों निप्पल एकदम काले जामुन जैसे कड़क हो गये थे और मेरा लंड जैसे दीदी की चूत फाड़ देगा। इस तरह से दीदी की चूत में अंदर बाहर होने लगा था। अब में कभी दीदी के निप्पल दबाता, तो कभी दीदी की जीभ को चूस लेता था, तो दीदी आआआआआआ, उई रतन आआआआआआ की आवाजे निकालती और दीदी से पूरी तरह सट गया था।
अब दीदी इतना होने पर धीरे-धीरे अपना पानी छोड़ने लगी थी। मुझे दीदी की चूत का पानी बहुत अच्छा लगता है तो मैंने झट से दीदी की चूत पर अपना मुँह लगा दिया और धीरे-धीरे दीदी की चूत का पानी पीने लगा। अब दीदी एकदम मस्त आवाजे निकालने लगी थी और फिर में दीदी कि चूत का एक-एक बूँद पानी पी गया। अब दीदी एकदम निढाल होकर पलंग पर सो गयी थी और बोली कि रतन आज तो तुमने जन्नत दिखा दी। फिर में बोला कि दीदी थोड़ा और करो, मेरा अभी तक गिरा नहीं है। फिर दीदी बोली कि आज तुम्हारा मीरा गिराएगी, मीरा का वजन दीदी से कम था तो मैंने मीरा को उठाकर अपनी बाँहों में भर लिया। फिर मीरा बोली कि इतना मज़ा आएगा मैंने सपने में कभी नहीं सोचा था। अब मीरा एक बार फिर से सहवास करने लगी थी और 1 घंटे में थक गयी और बोली कि बस और नहीं। फिर तब दीदी उठी और मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी और करीब 20 मिनट तक चूसती रही। फिर में भी दीदी की चूचीयों को सहलाता रहा, तो थोड़ी देर के बाद मेरा भी वीर्य गिर गया और दीदी ने मेरे वीर्य की एक-एक बूँद को पी डाली। अब मीरा यह सब देख रही थी, तो दीदी बोली कि सब ख़त्म। फिर मीरा बोली कुछ तो गिरा ही नहीं, तो दीदी बोली कि सब मेरे पेट में चला गया और एक बार दीदी फिर से मुझसे लिपट गयी। अब इस बार मीरा भी दीदी के साथ मेरे लंड को साईड-साईड से चूमने लगी थी, तो तभी घड़ी का अलार्म बजा और हमने देखा कि 4 बज चुके थे। अब पापा के उठने का समय हो गया था, तो हम सबने जल्दी से अपने कपड़े पहनकर सही ढंग से सो गये और फिर हमें जब कोई मौका मिला तो हमने खूब चुदाई की और खूब मजा किया ।।

सभी hindi sex story जो aerograf31.ru द्वरा post की गई !

मुफ्त eBook डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करे. (  )
WhatsApp पर अपने दोस्तों के साथ Share करे ! 

Related Posts :

error: Content is protected !!


indian nude photoantervashnanonvegstory.comindian sex photoantrawasnamallu aunty storiesxxx photos hdsex hot photoshindi sex stories????? ??????antarvasna love storykamukata.comwww antarvasna story comsex hindi storyantarvasna bhabhi storyantarvasna com hindi meantravasanasex stories hindifree antarvasna storywww new antarvasna commummy ki chudaimummy ki antarvasnaindian sex picmaid sex storiesantarvasna hindi sex storymaa beta sexantarvasna hindi.comadbhutxxx sex imagesantarvasna boychachi ki gand marihot hindi sex storiessex kadaludost ki maa ki chudaiantarvasna repsex malayalam storyantarvasna bhabhi devarsex stories audioaunty ki chudaidesi xxx hindibahu ko chodaindian sex comicsantarvasna suhagraatindian sex stories with picssexstoriesgujrati antarvasnaantarvasna,comantarvasna boydesi chootantarvasna hindinew antarvasna hindi storybhaiya ne chodamere bhai ne mujhe chodaantervasansexy hindi kahaniantarvasna pdf downloadmarathi sex kathaantarvasna in hindi fontneend me chudaiboothukathaluxossip sex storiesantarvasna long storysex storieahindi sex antarvasna comantarvasna hindi sexy kahaniyasavita bhabhi ki chudaitrain me gand marixxx hindi kahanihot hindi story with photobhabhi chudaitrain me chudaisex kaise kare tipswww.sex stories.comgand mariporn stories in hindiantarvasna desi storieshindi xxx kahanisexy antarvasna storyxossip sex storieschudai image